शब्दिता

 आज शाम साहित्यिक संस्था 'शब्दिता' के तत्वावधान में नववर्ष और गीतऋषि आदरणीय गोपालदास नीरज के जन्मदिवस के उपलक्ष्य में काव्य गोष्ठी का आयोजन किया गया।

इस काव्य गोष्ठी में मुख्य अतिथि के रूप में उसहैत की लोकप्रिय चेयरपर्सन श्रीमती सेनरा वैश्य उपस्थित रहीं।
सरस्वती वंदना से कार्यक्रम आरंभ हुआ।तत्पश्चात सोनरूपा विशाल ने दिसम्बर माह का 'साहित्यगन्धा अटल विशेषांक' श्रीमती सेनरा वैश्य को भेंट किया एवं शॉल ओढ़ाकर उनका सम्मान किया।
तदुपरांत गोष्ठी प्रारम्भ हुई।सभी सदस्याओं ने जीवन के विविध पक्षों पर आधारित विषय पर अपनी अपनी रचनाएँ सुनाईं एवं नीरज जी को अपनी भावांजलि अर्पित की।
काव्य गोष्ठी का संचालन डॉ. शुभ्रा माहेश्वरी ने किया।
इस अवसर पर श्रीमती मंजुल शंखधार,दीप्ति जोशी गुप्ता,डॉ कमला माहेश्वरी,कुसुम रस्तोगी,ममता नौगरिया,रीना सिंह,पूनम रस्तोगी,गायत्री प्रियदर्शनी,डॉ. प्रतिभा मिश्रा,सरला चक्रवर्ती,सुषमा भट्टाचार्य,मधु राकेश,सरिता चौहान,उषाकिरण रस्तोगी,उपस्थित रहीं।
अंत में डॉ सोनरूपा ने सभी का आभार व्यक्त किया।










टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बाँटना ही है तो थोड़े फूल बाँटिये (डॉ. उर्मिलेश)

लड़कियाँ, लड़कियाँ, लड़कियाँ (डॉ. उर्मिलेश की सुप्रसिद्ध ग़ज़ल)

भय अजय होने न दूँगी